*क्या सच में बर्खास्त फौजी मोदी मर्डर के लिए 50 करोड़ की मांग रहा था सुपारी ???*

“`जनसम्पर्क≈LIFE≈“`

*समाजवादी पार्टी ने फ़ौजी पर फेंका बचाव का जाल: बताया बीजेपी की रची हुई साज़िश::*

अनम इब्राहिम

वाराणसी: आख़िर कैसे बना तेजबहादुर के नाम का सियासी तमाशा?
देश के बर्खास्त सिपाही को मोदी मर्डर के नाम पर सुपारी किलर बनाने वाले सियासी चेहरों ने चुनावी मैदान में भारतीय सेना का मान व अपमान करने में कोई कसर नहीं छोड़ी ?? समाजवादी पार्टी में मोदी के ख़िलाफ़ चुनावी मैदान में कूदने का असफ़ल प्रयास करने वाले बीएसएफ के बर्खास्त फौजी तेज बहादुर यादव के बचाव में अब सपा उतर आई है। सपा ने इसे सिरे से तेज बहादुर यादव के ख़िलाफ़ साजिश बताया है। तेजबहादुर बीएसएफ से बर्खास्त किए जाने के चलते नियमों की बेड़ियों ने उन्हें मोदी के सामने सपा प्रत्याशी बनने से रोक दिया लेकिन अब तेजबहादुर यादव के दो वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे हैं। बर्खास्त फौजी निजी तौर पर अपने साथियों के साथ शराब पीते दिख रहा है। व अन्य वायरल वीडियो में तेज अपने साथियों से कह रहा है कि 50 करोड़ रुपये मिलने पर वो 72 घंटे के अंदर पीएम मोदी को मारवा देगा। लिहाज़ा तेजबहादुर के वीडियो के वायरल होते ही सपा बचाव में उतर आई और वहीं तेजबहादुर बर्खास्त फौजी भी खुद के बचाव में मीडिया को सफ़ाई देते फिर रहे हैं फ़ौजी ने शराब पीने की बात तो स्वीकार ली है, लेकिन पचास करोड़ में मोदी को जान से मारने के मामले को साजिश बताया है। तेज कभी कहते हैं कि ये वीडयो तो दो साल पुराना है जो उनके दगाबाज दोस्तो ने चुपके से बनाकर धोका किया था। तेजबहादुर ने बात को फिर मोड़ दे दिया दावा किया कि ये वीडियो भाजपा की आईटी सेल की करतूत है। वीडियो से छेड़छाड़ की गई है। वो अब इसकी शिकायत दर्ज कराने व जांच करवाने की बात कर रहे हैं कि आख़िर ऐसा किसने किया है। बहादुर के बचाव में सपा ने कहा कि ये वीडियो बर्खास्त फ़ौजी के निजी पलों से जुड़ा दो साल पुराना है इस वीडियो को प्रचारित करना विरोधियों की हताशा दर्शा रहा है। अभी चुनाव का दौर है अभी विरोधियों की ओर से और भी वीडियो वायरल किए जा सकते हैं। तेजबहादुर ने सपा गठबंधन की ओर से वाराणसी से नामांकन दाख़िल किया था लेकिन तेजबहादुर को बर्खास्तगी क्लॉज के चलते नोटिस थमा दिया गया जिसके बाद में पर्चा खारिज हो गया था। अब तेजबहादुर सपा की प्रत्याशी शालिनी यादव का प्रचार कर रहे हैं। बहरहाल बर्खास्त फ़ौजी का मोदी को 50 करोड़ में मरवाने की बात वाला वीडियो ताज़ा है या पुराना, झूठा है या सच्चा ? जो भी हो एक बात समझ नहीं आती की ये गढ़े मुर्दे सिर्फ़ व सिर्फ़ चुनाव में ही क्यों उखड़ते हैं…….

Related posts