कोहरे के साये में प्रदेश, रूकी ट्रेनों की रफ्तार

भोपाल। हिमालय की तराई क्षेत्रों में बर्फबारी के कारण राजधानी समेत पूरे मध्यप्रदेश में सर्दी का सितम जारी है। ठंड के साथ ही कोहरे ने भी लोगों के जीवन को मुश्किल कर दिया। आज गुरूवार के दिन भोपाल और ग्वालियर—चंबल इलाकों में सबसे ज्यादा घना कोहरा देखने को मिला। सुबह के समय धुंध और शीतलहर ने लोगों की हालत खस्ता कर दी है। आज सुबह बच्चे ठिठुरते हुए स्कूल जाते दिखाई दिए। सबसे अधिक परेशानी वाहन चालकों को उठानी पड़ रही है कारण कि कोहरे के चलते सड़क पर दुसरी ओर से आने वाले वाहन नही दिख रहे हैं। धुंध ज्यादा होने के कारण ट्रेनों पर भी इसका असर देखा जा रहा है। कई ट्रेनें तय वक्त से देरी से चल रही हैं। जिससे यात्रियों को परेशानी झेलनी पड़ रही है।

मौसम विभाग के अनुसार उत्तरी भारत के कश्मीर लद्दाख क्षेत्र से आ रही बर्फीली हवाओं के कारण प्रदेश में ऐसी स्थिति बनी हुई है। बुधवार रात भोपाल में मौसम ने अचानक करवट बदली और और पांच से सात किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चलने लगीं। वहीं बढ़ती ठंड के कारण कोहरा इतना छा गया कि एयरपोर्ट पर सुबह छह बजे दृश्यता 50, साढ़े आठ बजे 200 औऱ साढ़े नौ बजे 1000 मीटर दर्ज की गई। दृश्यता बढ़ने के बाद साढ़े नौ बजे के बाद फ्लाइट लैंड हो पाई।

इसके अलावा सबसे ज्यादा कोहरे का असर ग्वालियर में देखा जा रहा है। वहीं प्रदेश के रीवा, जबलपुर और सागर संभाग में भी कोहरा बना हुआ है। वहीं हल्की बारिष के साथ हुई ओलावृष्टी के बाद ठंड भी बढ़ चुकी है।

Related posts