PS अवधपुरी: खूंखार कुत्तों ने बनाया 6 साल के मासूम को निवाला

भोपाल। राजधानी भोपाल में आदमखोर कुत्तों का आतंक कम नहीं हो रहा है। आए दिन आवारा कुत्ते किसी ना किसी को अपना शिकार बना रहे हैं। शहर के कई इलाके आवारा कुत्तों से घिरे हुए हैं। जिस कारण बच्चों का घरों से निकलना मुश्किल हो रहा है। कुत्तों के हमलों की लगातार हो रही घटनाओं के बाद भी प्रशासन जागा नहीं है। जब हादसे हो जाते हैं तब प्रशासन और नगर निगम की नींद खुलती है। कुत्तों के आतंक की एक घटना कल फिर भोपाल में सामने आई। जहां घर के बाहर खेल रहे 6 साल के मासूम को आवारा कुत्तों ने नोच खाया। इलाज के लिए अस्पताल ले जाते वक्त मासूम ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया।

jansamparklife.com को मिली जानकारी के अनुसार, हरिनारायण जाटव शिवसंगम नगर अवधपुरी इलाके में रहते हैं। उनके परिवार में पत्नी दो बेटियां और एक 6 साल का बेटा संजू था। कल शुक्रवार शाम को संजू घर के बाहर खेल रहा था। तभी वहां आवारा कुत्ते उस पर टूट पड़े और उसे नोच—नोच कर मार डाला। बच्चे के शरीर का कोई हिस्सा ऐसा नहीं बचा था जहां कुत्तों ने काटा न हो। बच्चा चीखा चिल्लाया तो बच्चे की मां आवास सुनकर वहां पहुंची। उसने कुत्तों को भगाने का प्रयास किया तो कुत्ते उस पर भी लपक गए। जैसे—तैसे करके परिजनों ने कुत्तों से बच्चे को छुड़ाया और अस्पताल लेकर गए जहां रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया। इस घटना के बाद से ही इलाके में दहशत का माहौल है। यह कोई पहला मामला नहीं है जब कुत्तों ने किसी को अपना शिकार बनाया हो। इससे पहले भी कुत्ते कई मासूमों को अपना निवाला बना चुके हैं। लेकिन इन घटनाओं के बावजूद प्रशासन नगर निगम गंभीर नहीं हुआ है।

मां के सामने इकलौते बेटे को खा गए आदमखोर कुत्ते

मृतक बच्चे की मां का रो—रोकर बुरा हाल है। संजू उसका इकलौता बेटा था। एक महिने पहले ही उसने एक बेटी को जन्म दिया था। जिसके बाद डॉक्टरों ने बताया था कि वह अब मां नहीं बन सकती है। संजू की मां बार बार यही बोल रही है कि क्यों उसने संजू को बाहर खेलने जाने दिया। संजू के पिता हरिनारायण जाटव ने बताया कि इलाके में कई खूंखार कुत्ते हैं। संजू को जब कुत्ते नोच रहे थे तब उन्होंने पत्थर मारे, शोर मचाया लेकिन कुत्तों ने उनके मासूम बेटे को नहीं छोड़ा। कुत्तों को भगाने में कम से कम 10 मिनट लगे।

Related posts