कानपुर: शहर की सड़कों पर घूम रहे 8 हजार से अधिक अवैध ई-रिक्शा

कानपुर। शहर की सडकों पर 8 हजार से ज्यादा ई-रिक्शा दौड़ रहे हैं जो अवैध हैं और ये शहर की यातायात व्यवस्था के लिए कोढ़ं बन चुके है। वहीं शहर को अवैध ई रिक्शा से मुक्त कराने का अभियान बेहद धीमी रफ्तार से चल रहा है। बीते महीने यातायात पुलिस और आरटीओं की टीमें शहर भर में धूम-धूमकर चेकिंग करती रही लेकिन नतीजा खास हाथ नहीं लगा। चेकिंग के दौरान महज 286 ईरिक्शा ही जब्त किए जा सके। अधिकारी भी इस बात को मानते है कि शहर में अवैध रूप से 8 हजार से अधिक ईरिक्शो का संचालन किया जा रहा है।

शहर की यातायात व्यवस्था के लिए कोढ़ बन चुके ईरिक्शा पर अधिकारियों द्वारा भी कार्यवाही में हीलाहवाली बरती जा रही है। अधिकारियों ने आधी-अधूरी के साथ अभीयान शुरू किया था। वहीं इस अभियान में काम को अंजाम देने के लिए एसपी ट्रैफिक ने आनन-फानन में सीओ और यातायात इंस्पेक्टरों की चार टीमें बना दी थी जो कुछ चैराहों पर चेकिंग कर रही थी। जिन चैराहो में इन टीमों द्वारा चेकिंग की गयी वहां छोड कर बांकी पूरे शहर में ई रिक्शा आराम से चलते रहे।

जानकारी के अनुसार त्योहार के बाद इस अभियान में तेजी लायी जायेगी। बताया जाता है कि चेकिंग अभियान कें लिए चार इंस्पेक्टरों के अलावा यातायात पुलिस में 12 सब इंस्पेक्टरभी थे साथ ही इंस्पेक्टर के साथ दरोगा को भी टीम में शामिल किया गया था। दूसरी तरफ ईरिक्शा चालकों का कहना है कि ईरिक्शा के कारण कई परिवारों का पेट भर रहा है। यदि इन्हे बंद कराया गया या कोई कार्यवाही की गयी तो कई परिवार भुखमरी की कगार पर जायेंगे। वहीं कुछ लोग ईरिक्शा का व्यापारी करण कर दिया है। शहर भर में ऐसे भी लोग हैं जिन्होंंने 4 से 8 ईरिक्शा निकाल लिये है और किराये पर देते हैं। रिक्शा मालिकों को ईरिक्शा देने का प्रतिदिन 5सौ रू0 किराया मिलता है।

Related posts