कमलनाथ के कर्जमाफी के वादे ने किसानों को अधर में लटकाया: गुर्जर

भोपाल। प्रदेश में कर्जमाफी को लेकर भाजपा लगातार कांग्रेस पर हमले कर रही है। इसी कड़ी में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री बंशीलाल गुर्जर ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने किसानों का कर्ज तो माफ किया नहीं है, ऊपर से उन्हें डिफाल्टर और बना दिया है। इससे अब प्रदेश के किसान खरीफ की फसलों के लिए कर्ज लेने लायक भी नहीं रहे। इस तरह प्रदेश के किसान अब दोहरी मार झेल रहे हैं।

महामंत्री बंशीलाल गुर्जर ने कहा कि कांग्रेस के कर्जमाफी के वादे ने प्रदेश के किसानों को अधर में लटका दिया है। न तो उनका कर्ज माफ हो सका है, न ही उन्हें खरीफ की फसलों के लिए लोन मिल पा रहा है। सरकार ने कुछ किसानों को कर्जमाफी के प्रमाण पत्र भले ही दे दिए हैं, लेकिन कर्ज देने वाली संस्थाओं से उन्हें नोड्यूज् प्रमाण पत्र नहीं मिल पाया है, जिससे वे डिफाल्टर की श्रेणी में आ गए हैं। ऐसी स्थिति में किसान खरीफ की फसल बोने में अपने-आपको असहाय महसूस कर रहा है, क्योंकि खेत की तैयारी के लिए पहले पैसे की जरूरत होती है, जो उसे नहीं मिल पा रहा है।

गुर्जर ने कहा कि कर्जमाफी का सहारा लेकर सत्ता में आई कांग्रेस ने किसानों के साथ छलावा किया है। प्रदेश के किसानों ने इस कर्जमाफी के भुलावे में आकर कांग्रेस को वोट भले ही दे दिया हो, लेकिन किसानों को अपनी इस भूल और कांग्रेस के वादे की वास्तविकता का अहसास हो रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसान लोकसभा चुनाव में इस धोखे के लिए कांग्रेस को सबक जरूर सिखाएंगे।

सहकारी आंदोलन को कुचल रही सरकार
प्रदेश महामंत्री गुर्जर ने कहा कि कमलनाथ सरकार कर्जमाफी का पूरा पैसा न देते हुए कर्ज देने वाली सहकारी संस्थाओं से कर्ज की आधी राशि चुकाने के लिए प्रस्ताव मांग रही है। गुर्जर ने कहा कि यदि ये संस्थाएं ऐसा करती हैं, तो पहले से आर्थिक दुरावस्था झेल रही इन संस्थाओं की स्थिति और बिगड़ जाएगी और उनके लिए आगे काम कर पाना मुश्किल हो जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार का यह कदम उस सहकारी आंदोलन को कुचलने जैसा है, जो किसानों के मददगार के रूप में जाना जाता है।

Related posts