उत्तर भोपाल की उम्मीदवार के मंदिर जाने से हुआ बवाल, हाथ जोड़कर- गले मे माला और माथे पर टिका बना चर्चा का विषय

भोपाल। मध्यप्रदेश
मध्यप्रदेश के चुनावो में बस कुछ ही दिन शेष हैं और पार्टी के मुखिया से लेकर पार्टी में आये नए-नवेले उम्मीदवारों तक सब पूरी कोशिश में लगे हुए हैं कि जनता को प्रभावित कर कैसे उनका मन अपनी पार्टी की ओर किया जाए। कुछ इसी कोशिश में लगी थी भोपाल उत्तर से चुनावी मैदान में उतरी भाजपा की उम्मीदवार फातिमा रसूल सिद्दीकी। बता दे कि सोशल मीडिया पर फातिमा की यह तस्वीर खूब वायरल हो रही हैं जिसमे वो मंदिर में हाथ जोड़कर खड़ी हैं एवं माथे पर टिका गले मे माला चर्चा का विषय बना हुआ हैं। लोगो का मानना हैं कि यह सब फातिमा ने हिन्दू वोटरों को लुभाने के लिए किया हैं जिस चक्कर मे उन्होंने क्षेत्र के मुस्लिम समुदाय को खासा नाराज़ कर दिया हैं जिसके बाद जनता का गुस्सा सोशल मीडिया पर देखने को मिल रहा हैं।

उत्तर भोपाल में हैं ज़्यादा मुस्लिम आबादी
भोपाल-उत्तर में मुस्लिम आबादी अध‍िक है। ऐसे में बीजेपी ने यहां से मुस्लिम उम्मीदवार मैदान में उतारा है। मध्‍य प्रदेश विधानसभा चुनाव में फातिमा बीजेपी की इकलौती मुस्लिम महिला प्रत्याशी हैं।

क्या हैं फातिमा का बीजेपी से कनेक्शन?
90 के दशक में इस सीट पर फातिमा के पिता रसूल अहमद सिद्दीकी 2 बार विधायक रह चुके हैं। 1992 में आरिफ अकील जनता दल पार्टी से इस सीट पर लड़े और जीत दर्ज की। तब सिद्दीकी साहब तीसरी जगह पर रहे थे।

किसके खिलाफ खड़ी हैं फातिमा?
फातिमा के ख‍िलाफ मैदान में खड़े आरिफ भोपाल-उत्तर सीट से कांग्रेस के वर्तमान विधायक हैं। इतना ही नहीं, वह 1992 से अब तक लगातार चुनाव जीतते आ रहे हैं। ऐसे में फतिमा की चुनावी डगर इतनी आसान भी नहीं है।

Related posts