इस बार गणतंत्र दिवस परेड में बाल विकास मंत्रालय द्वारा चुने गए बच्चे होंगे शामिल

नई दिल्‍ली। 61 साल बाद सरकार गणतंत्र दिवस की परेड में बड़ा बदलाव करने जा रही है। अभी तक सरकार हर साल पं. जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिन पर मनाए जाने वाले राष्ट्रीय बाल दिवस पर मेधावी बच्चे को नेशनल अवाॅर्ड फॉर चिल्ड्रेन देती रही है, लेकिन इस बार इन पुरस्कारों का नाम बदलकर प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार कर दिया गया है। 61 साल से आईसीसीडब्ल्यू द्वारा चुने गए बहादुर बच्चे ही परेड में शामिल होते थे लेकिन, इस बार इनकी जगह महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा चुने गए बच्चे पुरष्कृत होंगे। इन बच्चों को चुनने वाली इंडियन काउंसिल फॉर चाइल्ड वेलफेयर (आईसीसीडब्ल्यू) पर वित्तीय गड़बड़ी के आरोप हैं।

सभी बहादुर बच्चों को नकद राशि, प्रशस्ति पत्र और मेडल दिया जाता है। सभी की पूरी शिक्षा का खर्च भी परिषद वहन करता है। नकद राशि के तहत भारत अवार्ड में 50 हजार रुपये, गीता और संजय चोपड़ा अवार्ड में 40-40 हजार रुपये, बापू गयाधनी अवार्ड में 25 हजार रुपये, जबकि अन्य पुरस्कारों में 20 -20 हजार रुपये दिए जाते हैं।

Related posts