आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने सुबह पड़ा अखबार, फिर खा लिया जहर

छतरपुर। क्या कोई अखबार को पढ़ने के बाद जहर खा सकता है। सुनकर यह बात थोड़ी अटपटी लगेगी पर यह सच हुआ है छतरपुर जिले में। जहां एक महिला ने सुबह अखबार पढ़ा और दूसरे ही पल उसने जहर खाकर जिंदगी खत्म करने की कोशिश की। जानकारी के जिला छतरपुर के गांव विक्रम पुरा में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता रीता तिवारी को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां वह जिंदगी और मौत के बीच झूल रही है।

ज़हर खाने वाली एक आंगनवाड़ी कार्यकर्ता हैं, जो कि विक्रमपुरा में कार्यरत हैं। उनपर संबंधित परियोजना अधिकारी द्वारा पदिय दायित्वों के घोर लापरवाही बरतने पर कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था। लेकिन उनके द्वारा कोई संतोषजनक जवाब न मिलने पर 31 जनवरी को उनको उनके पद से हटा दिया गया था। जिसकी सूचना समस्त मीडिया को जनसंपर्क विभाग द्वारा प्रेस नोट जारी करके दी गई थी।

जब शुक्रवार को अखबारों मे पद से हटाने की खबर रीता तिवारी ने पढ़ी तो परेशान होकर ज़हर खा लिया। परिजनों की मानें तो पद से हटाने की खबर मिलते ही उसने ज़हर खाया है और घायल रीता तिवारी ने पर्यवेक्षक एकता गुप्ता पर जबरन परेशान करने और विभागीय प्रताड़ित करने के आरोप लगाए हैं। बयान में उसने कहा कि एकता गुप्ता द्वारा गलत रिपोर्ट बनाकर मेरा चरित्र खराब करने की कोशिश है और अब पद से हटवा दिया है।

सच क्या है, और झूठ क्या है ये तो जांच करने के बाद ही सामने आएगा।

Related posts