अब तक चुराई 500 से अधिक कारे, अंतरराज्यीय वाहन चोर गिरोह के सरगना समेत चार लोगों आये क्राइम ब्रांच की गिरफ्त में

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने कुख्यात अंतरराज्यीय वाहन चोर गिरोह के सरगना समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों की पहचान साकिर उर्फ साटा (संभल, उत्तर प्रदेश), फुरकान शेख व मुंबइया (बांद्रा वेस्ट, मुंबई), सिकंदर उर्फ सलीम (मेरठ, उत्तर प्रदेश) व सगीर अहमद (बाबरपुर) के रूप में हुई है। साकिर गिरोह का सरगना है। उस पर दिल्ली पुलिस ने एक लाख और संभल (उत्तर प्रदेश) पुलिस की तरफ से 20 हजार रुपये का इनाम रखा गया था। साकिर गिरोह अब तक पांच सौ कारें चुरा चुका है।
साकिर पहला ऐसा वाहन चोर है, जिसपर दिल्ली पुलिस ने एक लाख रुपये का इनाम रखा था। उसकी निशानदेही पर क्राइम ब्रांच ने 33 कारें बरामद की हैं, जिनमें 4 फा‌र्च्यूनर, 7 क्रेटा, 7 इनोवा क्रिस्टा, 13 स्विफ्ट डिजायर, एक हुंडई वेरना व एक आइ टेन शामिल हे। ये सभी कारें दिल्ली-एनसीआर से चुराई गई हैं। उनके पास से बड़ी संख्या में कारों की चाबियां भी बरामद हुई हैं।
दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, मुंबई व पूर्वोत्तर के राज्यों में इस गिरोह ने खासा आतंक मचा रखा था। इससे जुड़े अन्य सदस्यों की तलाश की जा रही है। एडिशनल पुलिस कमिश्नर डॉ. एके सिंगला के मुताबिक साकिर पहले चोरी की कारों की खरीद-बिक्री करता था। बाद में उसने अपना गिरोह बनाकर अन्य गिरोहों की मांग के अनुसार दिल्ली-एनसीआर से वाहन चोरी कर उन्हें मुरादाबाद (उत्तर प्रदेश), काशीपुर (उत्तराखंड), अहमदाबाद (गुजरात), मुंबई, मीरा रोड कोल्हापुर (महाराष्ट्र), बेंगलुरु (कर्नाटक) व पूर्वोत्तर के राज्यों में आपूर्ति करने लगा।
सगीर को पिछले साल अप्रैल में दक्षिण पूर्वी जिला पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। गिरोह के तीन सदस्यों को क्राइम ब्रांच की इसी टीम ने दो महीने पहले गिरफ्तार किया था। 5 जून को सुंदर नगरी, नंदनगरी निवासी कालिया उर्फ सफरुद्दीन व उसके साथियों ने मियांवली से फॉ‌र्च्यूनर कार चोरी कर विवेक विहार में पार्किंग में खड़ी कर दी थी।
पुलिस जब ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) के जरिये कार की लोकेशन का पता लगाकर वहां पहुंची तो कालिया से मुठभेड़ हुई। मुठभेड में एक वाहन चोर मारा गया था, जबकि कालिया समेत अन्य भागने में सफल हो गए थे। पुलिस आयुक्त ने कालिया पर एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया था। उसे चार अगस्त को दबोचा गया था। उसकी निशानदेही पर तीन लग्जरी कारें बरामद हुई।
उससे पूछताछ के बाद 16 सितंबर को क्राइम ब्रांच ने पंजाब के मोगा निवासी तीरथ व नवीन को दबोच कर 11 लग्जरी कारें बरामद कीं। इंस्पेक्टर नीरज चौधरी के नेतृत्व में एसआइ कुलदीप, एएसआइ गुलाब सिंह, हवलदार शैलेंद्र, सचिन कुमार, सुरेंद्र, दिनेश व विवेक तोमर की टीम ने एक सप्ताह पहले साकिर, फुरकान शेख, सिकंदर व सगीर को दिल्ली समेत अन्य जगहों से दबोचा।

Related posts